'सफर' ने अपने पूर्वानुमान में यह दावा किया है कि दिल्ली में एक बार फिर से हवा खराब हो सकती है। यात्रा के पूर्वानुमान के अनुसार, दक्षिण पश्चिम से राजधानी में धूल का आगमन शुरू हो गया है। वहीं, पंजाब और हरियाणा में भी पराली जलाने की घटनाएं शुरू हो गई हैं।

हरियाणा-पंजाब के किसानो ने फिर से पराली जलना शुरू कर सकते हैं जिसके परिणामस्वरुप दिल्ली के पर्यावरण को फिर से खतरा हो सकता है।

अब जल्द ही राजधानी के लोगों को एक बार फिर प्रदूषण का सामना करना पड़ सकता है। सफ़र के पूर्वानुमान के अनुसार, राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक सोमवार से 200 के पार जा सकता है। सीपीसीबी के एयर बुलेटिन के अनुसार, राजधानी में वायु गुणवत्ता सूचकांक शनिवार को 165 पर रहा।

इसके अलावा भिवाड़ी में 226, फरीदाबाद में 172, गाजियाबाद में 199, ग्रेटर नोएडा में 224, गुरुग्राम में 184, मानेसर में 214 और नोएडा में 191 थे। एनसीआर में तीन स्थानों पर प्रदूषण भी खराब स्थिति में पहुंच गया है। यात्रा के पूर्वानुमान के अनुसार, दक्षिण पश्चिम से राजधानी में धूल का आगमन शुरू हो गया है।

वहीं, पंजाब और हरियाणा में भी पुआल जलाने की घटनाएं शुरू हो गई हैं। इसका धुआं भी राजधानी में पहुंचने लगेगा। शुक्रवार को 40 स्थानों पर पुआल जलाए गए। शनिवार से प्रदूषण के स्तर में वृद्धि दिखाई देने लगी है। शुक्रवार को, वायु गुणवत्ता सूचकांक 139 पर था। यह 27 और 28 सितंबर को और बढ़ सकता है।
वहीं, नासा यूनिवर्सिटी स्पेस रिसर्च एसोसिएशन के वरिष्ठ वैज्ञानिक पवन गुप्ता ने कहा कि अगले दो से तीन दिनों में उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में पीएम 2.5 की मात्रा तेजी से बढ़ सकती है। स्ट्रॉ के धुएं, धूल और बदलते मौसम की स्थिति दिल्ली एनसीआर को अब तेजी से प्रभावित करेगी।

Similar News

Sign up for the Newsletter

Join our newsletter and get updates in your inbox. We won’t spam you and we respect your privacy.