बापू के अनादर भारतीय मूल के लोगों ने अपनी नाराजगी व्यक्त करते हुए इसे घृणा अपराध का रूप बताया है और इस मामले में तत्काल जांच शुरू करने की मांग की है।

अमेरिका में कुछ उपद्रवियों ने बापू गाँधी की प्रतिमा तोड़ कर उनकी पुण्यतिथि पर उनका अपमान किया

महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर अमेरिका से बापू के अनादर की खबर आई है। कुछ अज्ञात उपद्रवियों ने अमेरिकी राज्य कैलिफोर्निया के एक पार्क में महात्मा गांधी की मूर्ति के साथ बर्बरता की है। इस घटना से अमेरिका में रह रहे भारतीय-अमेरिकियों में काफी गुस्सा है। उत्तरी कैलिफोर्निया के डेविस सिटी के एक पार्क में महात्मा गांधी की छह फीट ऊंची और 294 किलो की कांस्य की प्रतिमा स्थापित है।

उपद्रवियों ने गांधी की मूर्ति के साथ बर्बरता की है। मूर्ति का चेहरा बुरी तरह से खंडित हो गया है और मूर्ति पैर से नीचे की ओर टूट गई है। पुलिस ने कहा कि 27 जनवरी की तड़के एक पार्क कार्यकर्ता को महात्मा गांधी की एक टूटी हुई मूर्ति मिली। डेविस सिटी काउंसलर लुकास फ्रेरिच ने कहा कि फिलहाल, प्रतिमा को हटाया जा रहा है और मूल्यांकन होने तक इसे सुरक्षित स्थान पर रखा जाएगा।

जांचकर्ताओं को अभी तक यह नहीं पता है कि आखिर मूर्ति को कब गिराया गया और बदमाशों के ऐसा करने के पीछे क्या मकसद था। डेविस पुलिस विभाग के उप प्रमुख पॉल डोरोशोव ने कहा कि डेविस में लोगों के एक हिस्से के लिए इसे एक सांस्कृतिक आइकन के रूप में देखा जाता है, इसलिए हम इसे बहुत गंभीरता से ले रहे हैं। महात्मा गांधी की यह प्रतिमा भारत सरकार द्वारा डेविस सिटी को दान की गई थी।
गांधी-विरोधी और भारत-विरोधी संगठनों द्वारा प्रदर्शनों के दौरान चार साल पहले नगर परिषद द्वारा मूर्ति स्थापित की गई थी। भारत में अल्पसंख्यकों के संगठन (ओएफएमआई) और खालिस्तान समूह ने इन विरोध प्रदर्शनों का नेतृत्व किया और प्रतिमा की स्थापना का विरोध किया। दूसरी ओर, डेविस सिटी के नागरिकों ने मूर्ति की स्थापना का समर्थन किया और इसे स्थापित किया गया था। इस घटना के बाद से, OFMI ने महात्मा गांधी की प्रतिमा को हटाने के लिए अभियान चलाया। वहीं, डेविस सिटी में रहने वाले भारतीय-अमेरिकी समुदाय ने इस घटना के बाद से नाराजगी जताई और अपना गुस्सा जाहिर किया।

Similar News

Sign up for the Newsletter

Join our newsletter and get updates in your inbox. We won’t spam you and we respect your privacy.