गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान प्रदर्शनकारियों एवं पुलिस के बीच हिंसक झड़प के कुछ दिन बाद प्रदर्शन स्थलों पर सुरक्षा के उपाय कड़े किये गये हैं.

गाज़ीपुर बॉर्डर पर लोहे की कीलें उखाड़ने का VIDEO आया सामने, तो पुलिस बोली - री-पोज़िशनिंग कर रहे हैं

किसानों के प्रदर्शन स्थलों और उसके आसपास कई स्तर की अवरोधक, सड़कों पर लोहे की कीलें, कंटीले तार, सीमेंट के अवरोधकों के बीच लोहे की छड़ें लगाने, डीटीसी बसों एवं अतिरिक्त सुरक्षा कर्मियों की तैनाती जैसी भारी सुरक्षा व्यवस्था की गयी थी. सरकार के इस फैसले की ना केवल देश में ही, बल्कि विदेश में भी आलोचना होने लगी. इसके बाद गुरुवार को सड़क से कीलें हटाने का वीडियो सामने आया था.

हालांकि, इस पर दिल्ली पुलिस का कहना है कि हम गाजीपुर से कील हटा नहीं रहे हैं बल्कि कुछ जगहों पर पब्लिक जो आने जाने वाली है. उसको परेशानी न हो. इसलिए हम कील की री पोजिशनिंग कर रहे हैं. गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान प्रदर्शनकारियों एवं पुलिस के बीच हिंसक झड़प के कुछ दिन बाद प्रदर्शन स्थलों पर सुरक्षा के उपाय कड़े किये गये हैं. यहां तक इस आंदोलन को कवर कर रहे मीडियाकर्मियों को प्रदर्शनस्थलों पर पहुंचने में मुश्किल आ रही है क्योंकि उन्हें पहले चेकिंग और फिर कई स्तर की अवरोध व्यवस्था से गुजरना पड़ता है. 

प्रदर्शन स्थलों कड़ी सुरक्षाव्यवस्था की गई है, किसानों के आंदोलन में पहुंचने के लिए कई सत्र की अवरोध व्यवस्था से होकर जाना पड़ता है. इसकी तस्वीरें सोशल मीडिया पर काफी हो रही है. इसको लेकर सरकार की काफी आलोचना हो रही है. किसानों से मिलने जा रहे 15 विपक्षी सांसदों को रोका गया. सिंघू बार्डर पर सोमवार को पुलिसकर्मियों के निरीक्षण में श्रमिक सीमेंट के अवरोधकों की दो कतारों के बीच लोहे की छड़ें लगाते हुए देखे गये थे ताकि नये कृषि कानूनों का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों की आवाजाही सीमित की जा सके. 
इस तरह दिल्ली- हरियाणा बार्डर का एक अन्य हिस्सा अब एक प्रकार से बंद कर दिया गया क्योंकि सीमेंट की अस्थायी दीवार खड़ी कर दी गयी है. दिल्ली यातायात पुलिस ने ट्विटर पर सीमाओं के बंद रहने और आने-जाने के लिए वैकल्पिक मार्गों के इस्तेमाल का सुझाव दिया है. दिल्ली-गाजीपुर सीमा पर भी सुरक्षा बढ़ा दी गयी है, जहां किसान दो महीने से ज्यादा समय से कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं

Similar News

Sign up for the Newsletter

Join our newsletter and get updates in your inbox. We won’t spam you and we respect your privacy.